ट्रस

आर्किटेक्चर और संरचना इंजीनियरी में ट्रस (truss) एक ऐसी संरचना होती है जो एक या एक से अधिक त्रिकोणीय इकाइयों से मिलकर बनी होती है। ये इकाइयाँ सरल अवयवों से बनी होतीं है और इनके सिरे परस्पर 'नोड' पर जुड़े होते हैं। सभी वाह्यबल और प्रतिक्रियाएँ (रिएक्शन) इन्ही नोडों पर लगते है और यहाँ से अवयवों में टेन्साइल या कम्प्रेसिव (तन्य या संपीडक) बल के रूप में प्रकट होते हैं।

एक पुल के नीचे बनी 'ट्रस संरचना'

'एकतलीय ट्रस' (planer truss) वह ट्रस होती है जिसके सभी अवयव और नोड द्विबीमीय समतल में होते है जबकि 'स्पेस ट्रस' के अंदर मेंबर और नोड्स त्रिबिम के अंदर होते है।

ट्रस की विशेषताएँसंपादित करें

ट्रस के अंदर प्लेन मेंबर्ज़ होते है जो की जॉइंटो के द्वारा एक दूसरे से जुड़े होते है। ट्रस का आकर त्रिकोणीय इसलिए होता है क्यूकी एस आकर के अंदर सबसे जयदा स्थिरता होती है।

ट्रस के प्रकारसंपादित करें

  • पिच्ड ट्रस-यह ट्रस मकानो की छत मे प्रयोग की जाती है,
  • परल्एल कॉर्ड ट्रस ओर फ्लॅट ट्रस-यह मकानो के फ्लूरो मे प्रयोग की जाती है।

प्रॅट ट्रससंपादित करें

  एस ट्रस के अंदर वर्टिकल मेंबर कंप्रेशन (दवाव) को सहते है जबकि हॉरिज़ाँटल मेंबर (किछाव) को।

बाउस्रिंग ट्रससंपादित करें

एन ट्रसस का प्रियोग आर्च्ड ब्रिड्जस (पुल) मे किया जाता है। दूसरे विश्व युध के दौरान इसका काफ़ी प्रियोग हुआ था

नर छड़ कैंची (किंग पोस्ट ट्रस)संपादित करें

मादा छड़ कैंची (क्वीन पोस्ट ट्रस)संपादित करें

लेंटिकूलेर ट्रससंपादित करें

 
वाटरविल्ले सेतु (Waterville Bridge)

टाउन लॅटीस ट्रससंपादित करें

चित्रसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें